मोकामा के मंदिरों में उबड़ा सैलाब ,सावन की पहली सोमवारी

सोमवार को सावन माह के पहली सोमवारी को लेकर गंगा तट पर स्थित महादेव स्थान मे जलाभिषेक के लिए सुबह से ही आस्था का जनसैलाव उमड़ गया। बोलबम का नारा है बाबा एक सहारा है,हर हर महादेव के जयघोष से दिशाए गूंज उठीं। इस दौरान श्रद्धालुओ ने गंगा मे डुबकी लगाकर पवित्र शिवलिंग का जलाभिषेक कर मनौतिया मांगी। लोगों का कहना था कि सच्चे मन और श्रद्धा से बाबा का जलाभिषेक करने से भक्तों की मनोकामना पूरी होती है। तपस्वी स्थान,परशुराम स्थान,नारायणी घाट ,मालिया घाट,पाठक घाट ,पीपर तर , के मंदिरों पर सुबह से ही जलाभिषेक करने के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा।शिवनार में प्राचीन नीलकंठ शिव मंदिर में सावन माह की प्रहली सोमवारी को हजारों लोगों ने भोलेनाथ का दर्शन किया और शिवलिंग पर जलाभिषेक किया। गंगा में रात से ही लोगों ने स्नान करना शुरू कर दिया। सुबह में जैसे ही बाबा भोले का पट खुला ‘‘बोल बम’ के नारे के साथ जो दर्शन का सिलसिला शुरु हुआ वह देर शाम तक जारी रहा।

इस बीच कई अतिविशिष्ट लोगों ने भी जलाभिषेक किया।सावन के पहली सोमवारी मे शहर एवं ग्रामीण इलाके में शिव भक्तों का आस्था चरम पर देखने को मिला। हर जगह शिवमंदिरों में श्रद्धालूओं की हुजूम सी उमड़ पड़ी। पहली सोमवारी को लेकर जलाभिषेक करने को लेकर अहले सुबह से श्रद्धालुओं का आने का सिलसिला जारी था। मोकामा के बेटे मंजे कश्यप की आवाज़ में सुनिए सावन मे बाबा भोला को समर्पित ये गीत .