मोकामा
समाचार

डाक घर बनेगा बैंक ,डाक बाबु आपके घर लायेंगे बेंकिंग को

Spread the love

प्रधानमन्त्री मोदी जी की पोस्टल बैंक परियोजना का लाभ अब जल्द ही मोकामा को मिलने जा रहा है.मोकामा डाक विभाग भी 50 से जायदा लोगो को बेंकिग से जोड़ कर रोजगार देगा.घर घर डाकिया बाबु आके आपको बेंकिग सिखायेंगे .पढिये दैनिक भास्कर की रिपोर्ट :-सुपरस्टार राजेश खन्ना की फिल्म पलकों की छांव का गाना- डाकिया डाक लाया काफी प्रसिद्ध हुआ था। डाकिया के डाक लाने की बात समय के साथ एक कदम आगे बढ़ चुकी है और अब भारतीय डाक विभाग द्वारा डाकिया बैंक लाया की नीति पर काम किया जा रहा है।11हजार डाकिया हैं फिलहाल बिहार में .70वित्तीय संस्थाओं से डाक विभाग का समन्यव। हर डाकघर से 50 लोगों को रोजगार .पोस्टमास्टर जनरल अनिल कुमार ने बताया कि डाक विभाग द्वारा 70 वित्तीय संस्थाओं के साथ समन्वय स्थापित हो चुका है और कई तरह की वित्तीय सेवाएं लोगों को उपलब्ध होंगी।

डाकघरों में सभी प्रकार के इंश्योरेंस भी उपलब्ध होंगे। औसतन हर डाकघर से कम-से-कम 50 लोगों को रोजगार देने की व्यवस्था की जा रही है। स्मार्टफोन से लैस रहेंगे डाकिए .लोगों के घरों तक बैंकिंग सेवाओं की पहुंच सुनिश्चित कराने के लिए सभी डाकियों के पास स्मार्टफोन होगा। डाक विभाग के मोबाइल एप के जरिए स्पीड पोस्ट, पार्सल बुकिंग के अलावा पैसों का लेनदेन भी किया जा सकेगा। बिहार में फिलहाल 11 हजार डाकिया हैं और डाक विभाग की मंशा है कि डाकिया जब डाक लेकर घूमेंगे तो लोगों के दरवाजे तक बैंकिंग सेवाओं की पहुंच हो जाएगी। इससे वरिष्ठ नागरिकों, महिलाओं, समाज के अशिक्षित तबके के लोगों को काफी सुविधा होगी। उन लोगों को भी फायदा होगा जो किसी कारण से बैंक तक नहीं जा पाते हैं।
ग्रामीण डाकघरों में होंगी सभी सुविधाएं .बड़े डाकघरों के अलावा ग्रामीण और छोटे शहरों के डाकघरों में बहुत जल्द इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक शुरू होने जा रहा है। इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक सेवा शुरू हो जाने के बाद आरटीजीएस, एनईएफटी, डेबिट कार्ड, कैश क्रेडिट, क्रेडिट कार्ड सहित सभी बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध हो जाएंगी। गांव में लगेंगे माइक्रो एटीएम .पोस्ट मास्टर जनरल की मानें तो सभी गांव में माइक्रो एटीएम लगाने की तैयारी की जा रही है। डाक विभाग द्वारा माइक्रो एटीएम लगाए जाएंगे ताकि लोग छोटी नकद की निकासी अपने गांव में ही कर सकें। इससे लोगों को न सिर्फ सहूलियत हाेगी बल्कि उनका समय भी काफी बच सकेगा। क्यूआर कोड से नई डिजिटल करेंसी.डाक विभाग बैंकिंग सेवा से जुड़ने वाले सभी ग्राहकों के लिए क्यूआर कोड सुविधा शुरू करने जा रहा है। हर ग्राहक को एक क्यूआर कोड मुहैया कराया जाएगा। यह उनके खाते से जुड़ा रहेगा।

कहीं भी खरीदारी करने के लिए नकदी की जगह इस क्यूआर कोड का इस्तेमाल किया जा सकेगा। क्यूआर कोड को स्कैन करने के साथ ही लेन-देन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। दरअसल, डाक विभाग डाकिया बैंक लाया के नारे के साथ घरों तक बैंकिंग सेवाओं की पहुंच सुनिश्चित कराने जा रहा है। देश के सभी डाकघरों में यह योजना शुरू हो रही है। इस क्रम में मोकामा डाकघर से भी बहुत जल्द बैंकिंग सेवाओं की शुरुआत होने वाली है। (सौजन्य:-दैनिक भास्कर)