Home » Social » विज्ञान प्रदर्शनी!

विज्ञान प्रदर्शनी!

मोकामा (एसएनबी)। शिक्षक रामसागर सिंह की प्रथम पुण्यतिथि पर आयोजित विज्ञान प्रदर्शनी में छात्र-छात्राओं ने अपनी प्रतिभा का हुनर बिखेरा। शांति-सागर स्मृति संस्थान द्वारा विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन रामलखन सिंह महिला महाविद्यालय में किया गया था। प्रदर्शनी का उद्घाटन रामरतन सिंह कॉलेज के प्राचार्य डॉ. जितेन्द्र रजक तथा डीएवी के प्राचार्य सुदर्शन प्रसाद ने संयुक्त रूप से किया। विज्ञान प्रदर्शनी में हर मॉडल में बच्चों की प्रतिभा झलक रही थी। केन्द्रीय विद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा इको-फ्रेंन्डली फ्रिज, इको-फ्रेंन्डली रेलवे स्टेशन तथा ट्रेनों के शौचालयों में मानव-मल से विद्युत उत्पादन का माडल प्रस्तुत किया गया। रामलखन सिंह महिला महाविद्यालय की मनीषा, चांदनी, निशु, जूली, पूजा, शालिनी आदि छात्राओं द्वारा प्रस्तुत साइंस मॉडल जल चक्र तथा पर्यावरण संरक्षण पर आधारित था। मनीषा ने बताया कि प्रदर्शनी के माध्यम से पौधरोपण तथा पर्यावरण संतुलन का संदेश दिया गया है। मौके पर डीएवी बरौनी के प्राचार्य मुकेश कुमार, राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त शिक्षिका कृष्णा सिंह, श्यामचंद्र सिंह, विनय कुमार, हेमा कुमारी, मुरारी कुमार, रंजीत कुमार, अभिमन्यु कुमार, डॉ. सुधांशु आदि मौजूद थे

मोकामा में पिछले से दो दिनों से शैक्षणिक माहौल में एक सुखद परिवर्तन देखने को मिल रहा है। विज्ञान प्रदर्शनियों के आयोजन से विद्यार्थियों में एक खास दिलचस्पी देखी जा रही है। किताबी ज्ञान के आदी हो चुके बच्चों के लिए विज्ञान प्रदर्शनियों का आयोजन व्यावहारिक ज्ञान में वृद्वि के लिए सकारात्मक और उत्साहवर्धक माना जा रहा है। रामलखन सिंह महाविद्यालय में बुधवार को विज्ञान प्रदर्शनी में विद्यार्थियों ने कला कौशल का परिचय दिया। गरुवार को केन्द्रीय विद्यालय मोकामाघाट में समाज विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन हुआ। वहीं श्रीकृष्ण मारवाड़ी विद्यालय में भी गुरुवार को विज्ञान प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। डीएवी मोकामा के छात्रों- प्रसून कुमार और मृगांक कृषि ने पेट्रोल और कार्बन डाइऑक्साइड की अभिक्रिया के बाद सॉल्ट वाटर से मिलान कराने के बाद पेट्रोलियम गैस बनाकर हर किसी को हैरत में डाल दिया। डीएवी की छात्रा सुरभि ने ज्वालामुखी विस्फोट की विनाशलीला को काबू करने का मॉडल प्रस्तुत किया। रामलखन सिंह महिला महाविद्यालय और आर्यकन्या विद्यालय की छात्राओं के माडलों ने भी हर किसी को वाह-वाह करने पर मजबूर कर दिया। इलाके में जहां हथियारों का प्रदर्शन होता था वहीं अब किज्ञान की प्रदर्शनी लगने लगी है और जहां अत्याधुनिक हथियारों का प्रदर्शन होता था वहां अब विज्ञान के माडल प्रदर्शित किए जा रहे हैं। इलाके के अम लोग भी इस पहल की सराहना कर रहे हैं।

(राष्टीय सहारा ४-१०-१२)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *