Home » अपराध » बाहुबली अनंत को ‘सुप्रीम’ राहत, रिहाई का रास्ता साफ

बाहुबली अनंत को ‘सुप्रीम’ राहत, रिहाई का रास्ता साफ

बाहुबली अनंत सिंह को सुप्रीम कोर्ट से मिली बड़ी राहत, रिहाई का रास्ता साफ
पटना.बिहार के मोकामा से निर्दलीय विधायक अनंत सिंह को सुप्रीम कोर्ट से बुधवार को बड़ी राहत मिली। सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार की ओर से लगाए गए सीसीए को अवैध करार देते हुए पटना हाईकोर्ट के फैसले को निरस्त कर दिया । कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि अनंत सिंह पर लगाया गया सीसीए एक्ट गलत है। दो साल पहले सरकार ने लगाया था सीसीए…
– बिहार सरकार ने विधायक अनंत सिंह पर सीसीए लगाया था। अनंत ने इसके लिए कोर्ट में अपनी फरियाद का दरवाजा खटखटाया था जिसे हाईकोर्ट ने इनकार कर दिया था. इसके बाद अनंत सिंह ने अपनी गुहार सुप्रीम कोर्ट में लगायी थी। जहां से आज उन्हें बड़ी राहत मिली है।
बाढ़ थाने में दर्ज हैं 23 मामले
– अनंत सिंह पर ढाई दर्जन से अधिक संगीन मामले दर्ज हैं।
– इनमें कत्ल, अपहरण, फिरौती, डकैती और बलात्कार जैसे तमाम संगीन मामले के आरोप इनपर लगे हैं।
– अकेले सिर्फ बाढ़ थाने में ही अनंत सिंह के ऊपर 23 संगीन मामले दर्ज हैं।
– इनमें से कई में अनंत सिंह फिलहाल अब बरी हो चुके हैं।
छोटे सरकार के नाम से जाने जाते हैं
– अनंत सिंह अपने लोगों के बीच ‘छोटे सरकार’ के नाम से जाने जाते हैं।
– दो साल पहले 17 जून को पटना के बाढ़ में रहने वाले चार युवकों ने एक महिला के साथ छेड़खानी कर दी थी।
– आरोप है कि अनंत के इशारे पर ही उनके गुर्गों ने चारों युवकों को अगवा कर लिया था।
– इनमें से एक युवक की हत्या कर दी गई थी।
– अगले दिन उसका शव जंगल में पड़ा मिला था।
– इस मामले में पुलिस ने कई आरोपियों को गिरफ्तार किया था।
– बाकी तीनों अपहृत युवकों को भी बरामद कर लिया था।
– पूछताछ के दौरान आरोपियों ने खुलासा किया कि विधायक ने चारों युवकों को सबक सिखाने का आदेश दिया था, लेकिन वे बाकी युवकों को मारते इससे पहले ही पुलिस वहां पहुंच गई थी और वे रिहा हो गए।
इसके बाद ही शुरू हुआ विवाद
– इस घटना के बाद ही अनंत सिंह पर पुलिस का पहरा बढ़ गया।
– प्रदेश की राजनीतिक समीकरण भी बदल गया था।
– सरकार के सबसे करीबी कहे जाने वाले छोटे सरकार अनंत सिंह का इस मामले में गिरफ्तारी का आदेश हो गया था।
– कहा जाता है कि यह आदेश भी राजनीतिक था।
– इस घटना के बाद ही अनंत सिंह और नीतीश कुमार में दूरीयां बढ़ गयी थी।
रेप और हत्या में सामने आया नाम
– 2007 में एक महिला से बलात्कार और हत्या के मामले में भी अनंत सिंह के नाम सामने आये थे।
– कहा जाता है कि इस संबंध में प्रश्न पूछने पर अनंत सिंह ने उस पत्रकार की जमकर पिटाई कर दी थी।
– जब मामला ने तूल पकड़ा तब विधायक की गिरफ्तारी हुई थी।
– इस मामले पर सीएम नीतीश कुमार ने चुप्पी साध लिया था।
– 2013 में उन पर पटना के पॉश पाटलिपुत्र कॉलोनी स्थित अपने होटल के सामने अतिक्रमण करने का आरोप भी लग चुका है.
पटना की पॉश कॉलोनी में है होटल
– पटना की पॉश पाटलिपुत्र कॉलोनी में अनंत सिंह का आलीशान होटल है।
– साल 2013 में अनंत सिंह पर होटल के सामने अतिक्रमण करने का आरोप भी लग चुका है।
– हालांकि जब बवाल बढ़ा तो बाहुबली ने जमीन खाली कर दी।
– अनंत सिंह पर हत्या, अपहरण जैसे मामलों के अलावा बेहिसाब संपत्ति होने के भी आरोप लगते आए हैं।
शौक के लिए मंगवाई दिल्ली से बग्घी
– अनंत सिंह के पास कई लग्जरी गाड़ियां हैं। लेकिन मर्सडीज़ और बग्घी की उनकी सवारी काफी चर्चित है।
– वैसे तो अनंत सिंह मर्सडीज से चलते हैं, लेकिन एक बार उन्होंने शौक से दिल्ली से खासतौर पर बग्घी मंगवाई और मर्सडीज छोड़ कर बग्घी से विधानसभा पहुंचे थे।
– अनंत सिंह से जब यह पूछा गया था कि वे बग्घी की सवारी क्यों करते हैं तो उन्होंने इसे पेट्रोल बचत का तरीका बताया था।
17 हजार वोटों से जीते थे चुनाव
– अनंत सिंह को करीब 17 हजार से ज्यादा वोटों से मोकामा से सीट पर निर्दलीय विधायक चुने गए थे। उन्होंने जेडीयू कैंडिडेट नीरज कुमार को हराया था।
– विधानसभा चुनाव के समय पिछले साल 8 अक्टूबर को अनंत सिंह को बेउर से भागलपुर सेंट्रल जेल शिफ्ट किया गया था। फिर चुनाव के बाद बेउर जेल लाया गया।
– हत्या, अपहरण, रंगदारी समेत 50 मामले उन पर दर्ज हैं। नोमिनेशन में दिए शपथपत्र के अनुसार उन्हें किसी केस में सजा नहीं हुई है।

anant-main

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *