Home » अपराध » नरसिंह मठ की 46 बीघा जमीन पर है अवैध कब्जा

नरसिंह मठ की 46 बीघा जमीन पर है अवैध कब्जा

मोकामा। धार्मिक संस्थान की संपत्ति पर अवैध रूप से कब्जा करने के मकसद से वर्ष 1991 में मोकामा के सकरवार टोला स्थित नरसिंह मठ में सुनियोजित साजिश के तहत पुजारी की हत्या कर मठ के गर्भगृह से नरसिंह एवं अन्य देवी देवताओं की मूर्तियां लूटी गई थीं। वर्ष-1855 में स्थापित इस मठ में बहुमूल्य मूर्तियों को लूटने की घटना के अगले दिन ही पुलिस ने लुटेरों का पता लगाकर प्रतिमाओं को बरामद कर लिया था। हालांकि बाद में कोर्ट ने मठ परिसर को असुरक्षित मानकर जब्त मूर्तियों को थाना परिसर में रखने का आदेश दिया था। कुछ समय बाद नरसिंह भगवान की प्रतिमा को मोकामा के ही सेवानिवृत शिक्षक रामनंद सिंह ने जिम्मेनामे पर ली लेकिन कुछ समय बाद प्रतिमा रखने के कारण निजी असुरक्षा बढने के भाव के कारण उन्होंने प्रतिमा रखने से इंकार कर दिया था। मौजूदा समय में प्रतिमा बाढ में अधिवक्‍ता रामपदारथ सिंह के आवास पर कड़ी सुरक्षा के बीच रखी है। nar2
हालांकि इस बीच पिछले महीने जनवरी 2017 में आए एक निर्णय के बाद अब अष्टधातु की प्रतिमा पुलिस अभिरक्षा से मुक्‍त होगी। इसके साथ ही सकरवार टोला स्थित ऐतिहासिक नरसिंह मठ के जीर्णोद्धार का भी निर्णय लिया गया है। इस संबंध में बिहार धार्मिक न्याय परिषद से भी गुहार लगाई गई है कि नरसिंह प्रतिमा को मठ में स्थापित करने का मार्ग प्रशस्त किया जाए और मठ के जीणोद्धार के लिए आवश्यक कार्रवाई की जाए।
इसी संबंध में 6 फरवरी को समाज के प्रबुद्ध जनों की एक बैठक मोकामा में संपन्न हुई और मठ की संपत्ति पर अवैध रूप से कब्जा जमाए बैठे असामाजिक तत्वों के खिलाफ प्रशासन एवं सामाजिक स्तर कार्रवाई करने पर विचार विमर्श किया गया। बैठक में मठ की संपत्ति का विस्तृत विवरण सार्वजनिक किया गया। मठ के स्वामित्व में 44 बीघा 12 कट्ठा खेती योग्य जमीन है जो मोकामा टाल के विभन्न क्षेत्रों में है। हालांकि इस जमीन पर लम्बे अरसे घोसवरी थानान्तर्गत गोसाईंगांव निवासी दिnar3वाकर यादव एवं विंदेश्‍वर यादव ने अवैध कब्जा जमा रखा है। दिवाकर यादव एवं विंदेश्‍वर यादव हर वर्ष अवैध रूप से जमीन को जोत-बुन रहे हैं जो पूरी तरह से गैरकानूनी और अवैध कब्जा है। बैठक में उपस्थित प्रबुद्ध जनों ने प्रशासन से अपील की कि जमीन पर अवैध कब्जा जमाए बैठे दिवाकर यादव एवं विंदेश्‍वर यादव के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए और मठ की संपत्ति को मठ ट्रस्ट के अंतर्गत हस्तांरित किया जाए ताकि मठ का जीर्णोद्धार हो सके और जमीन से प्राप्‍त आय का उपयोग अन्य प्रकार के धार्मिक एवं समााजिक क्रियाकलापों में हो सके।
बैठक में मौजूदा विधान परिषद सदस्य नीरज कुमार, जन अधिकार पार्टी के नेता ललन सिंह, सामाजिक कार्यकर्ता देवेन्द्र प्र. सिंह, उपेन्द्र शर्मा, अजय कुमार, बबन सिंह, अशोक कुमार सिंह, आनंद शंकर सहित पचास से ज्यादा लोग उपस्थित हुए।

nar1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *