Home » Articles posted by suryaraj

Author Archives: suryaraj

ओछी सोच

किसी गाव में एक किसान  रहते थे। पति जो भी बोलते पत्नी ठीक उसके विपरीत करती थी। नतीजा ये हुआ उसे कभी कभी भूखे सो जाता था क्योकि उसकी पत्नी जो उसे पसंद रहता पत्नी ठीक उसके विपरीत बनाती थी। कुछ समय बीत जाने पर उसका पति समझ गया की मेरी पत्नी मेरे विपरीत सोचती […]

अपना दर्द

एक सुनार था, उसकी दुकान से मिली हुई एक लोहार की दुकान थी। सुनार जब काम करता तो उसकी दुकान से बहुत धीमी आवाज़ आती, किन्तु जब लोहार काम करता तो उसकी दुकान से कानों को फाड़ देने वाली आवाज़ सुनाई देती। एक दिन एक सोने का कण छिटक कर लोहार की दुकान में आ […]

शरारती बालक

स्कूल में अध्यापक बच्चे को पढ़ा रहे थे । तभी एक बच्चा बोला श्रीमान प्यास लगी है,अध्यापक ने देखा एक महिला मिट्टी के बर्तन में कुएं से पानी भर रही हैं । अध्यापक बोले उस महिला के पास जाओ और बोलना माँ मुझे पानी दो, कुछ ही देर में बच्चा रोते हुए पास आया और […]

रामलखन सिंह महिला कॉलेज । यह मोकामा शहर के बीच में स्थित है। यह कॉलेज मोलदियार टोला वार्ड न॰-11 में स्थित है। सूर्य राज

वो रात दीवाली होगी!

रोशनी से भरा चमन होगा, दीपों से भरी हर डाली होगी, वो रात दीवाली होगी…वो रात दीवाली होगी… बॉंटेगा हर कोई खुशियॉं इधर उधर, होगी खुशहाली हर आँगन होगी, रंग बिरंगी चिंगारी से भरा होगा आसमाँ, बेचारे चाँद के लिए भी जगह खाली न होगी, वो रात दीवाली होगी……वो रात दीवाली होगी

क्या आप जानते हैं – कंगारू मदर केयर!

कंगारू नाम के पशु के बच्चे बच्चे समय से पूर्व ही जन्म लेते है इस लिए जब तक की वे पूर्ण रूप से जीवित रहने के लिए समान्य नहीं हो जाते तब तक वे माँ कंगारू की थैली जो की उसके पेट की तरफ होती है उसमे हफ्तों तक आराम से रहते हैं। इन्सानो और […]

लालची लकड़हारा!

लालचीलकड़हारा एक गाँव मेँ एक लकड़हारा रहता था। जंगल से लकड़ियाँ काटकर जो धन मिलता, उसी मेँ संतुष्ट रहता। एक दिन वह नदी किनारे एक पेड़ काट रहा था और उसकी कुल्हाड़ी पानी मेँ गिर गई। पानी गहरा था और लकड़हारा यह सोच रहा था की किसी तरह अपनी कुल्हाड़ी निकाले, की वहाँ एक देवता […]

तीन हजार पाउच बरामद!

मोकामा (एसएनबी)। टाल इलाके में घोसवरी पुलिस ने अवैध देसी शराब की बड़ी खेप को बरामद किया। थानाध्यक्ष अजय कुमार सिंह के नेतृत्व में चलाए गए ऑपरेशन में तीन हजार अवैध देसी पाउच के साथ दो युवकों को गिरफ्तार किया गया। ये लोग शराब पहुंचाने का काम करते थे। शराब को बाढ़ से साम्यागढ़ ले […]

अटूट मेहनत!

वरदराज छोटी सी उम्र का बालक था। उसका पढ़ने मेय बहुत मन नहीं लगता था। कई-कई घंटे व्यतीत कर देने के बाद भी उसे याद नहीं होता था। आखिर एक दिन दुखी होकर वह घर से भाग गया। रात एक सराय मे गुजारी। रात भर घर की याद मे उसे नींद नहीं आ रही थी। […]

जिसके पास संतोष है, उसे फिर कोई आकर्षक विचलित नहींकरते!

एक संत भ्रमण पर निकले हुए थे। उन्हे मार्ग मे एक राजा मिला, जो परोसी राज्य पर हमला करने सा लिए निकला हुआ था। संत को देखकर उसने उन्हे प्रणाम किया और बोला-“महाराज ! मै चक्रवर्ती सम्राट हू। मेरे पास अपारधन-संपत्ति है और आज मै उसे और बढ़ाने के लिए दूसरे राज्य पर आक्रमण करने […]