मोकामा
समाचार

5 दिन में 5 यादव मर गये ,कंहा है अपने को यादव का मसीहा कहने वाले पप्पू यादव ,तेजस्वी यादव

Spread the love

हर बात में अपने आप को यादवों के मसीहा कहने और कहवाना पसंद करने वाले पप्पू यादव और तेजस्वी यादव आज कंहा है जबकि महज 5 दिन में 5 यादव मौत के मुंह में जा चुके है.कोई भी नेता इनलोगों के घर तक नहीं आया जबकि हर हमेशा अपने को गरीबो का नेता कहने वाले आज चुप क्यों है.शायद चुनाव में अभी देरी है.जब चुनाव होता है तो ये लोग तो हर यादव के घर जाकर उनका खिचरी तक खाने लगते है .आज जब सचमुच यादव भाइयों को उनकी जरूरत है तो कंहा सो रहे हैं.कोई भी नेता जी को फुसत नहीं की इस दुःख की घड़ी में उनके परिवार को सांत्वना दे सकें.क्या इस बार मरने वाले यादव भाइयों का खून लाल नहीं नेता जी ,क्या इस बार मरने वाले गरीबों की आत्मा आपको सताएगी नहीं ,या चुनाव के समय जो आँसू आपके निकलते है आपकी आँखों से यादवो के लिए वो नकली होते है .या सिर्फ ड्रामा होता है आपका यादवो के घर खिचड़ी खाना.जो भी है अगर इतने मौत के बाद भी आपके आँखों में आँसू नही है तो आप यादव के नेता तो क्या इंसान कहलाने के हकदार भी नहीं .आपका यादव प्रेम सिर्फ ढोंग भर  है .ये भी पढिये 1.दिवाकर यादव के भाई अरुण यादव की हत्या 2.रामबिलास यादव और उनके बेटे पप्पू यादव उर्फ शंकर यादव को गोलियों से भून डाला 3.मृतकों में सरयुग यादव (55 वर्ष) और लल्लू यादव (28 वर्ष) शामिल हैं.