मोलदियार टोला के 2 युवकों की सडक दुर्घटना में मौत

मोकामा पटना के 4 लेन के पास मोकामा के 2 युवाओं की सड़क दुर्घटना में मौत की खबर आ रही है .मृतक युवक मोलदियार टोला के बताए जा रहे है.दुर्घटना फतुहा के  पास जगमाल बीघा में  हुई है. मोकामा के कुछ युवक जिस गाड़ी में सवार थे उसका चक्का खुल गया जिसके कारन गाड़ी बुरी तरह दुर्घटना ग्रस्त   हो गई .

.2  युवकों की घटनास्थल पर ही मौत बताई जा रही है ,मरने वाले  युवकों के नाम हिमाशु,पशुपति   बताया जा रहा है , हिमांशु कुमार मोलदियार टोला निवासी निरंजन सिंह का भतीजा है और पशुपति कुमार कांग्रेस कार्यकर्ता सुनील सिंह का बेटा है.जबकि कुछ लोगो  पटना के राजेश्वरी अस्पताल में भर्ती  कराया गया है .दुर्घटना स्थल पर से लोगो का जमावड़ा लगा हुआ है.1 बुरी तरह से जख्मी है जिसे पटना ले जाया गया है .2 लोग ठीक बताये जा रहे है.

अभी जनवरी के पहले दिन ही मोकामा के सकरवार टोला के 2 युवक की मौत भी सड़क दुर्घटना में हुई थी जब वो लोग नए साल के जश्न से लौट रहे थे तो उनकी गाड़ी एक खम्भे से टकरा गई थी और उसमे से करंट लग जाने से उनकी मौत हो गई थी .

 

 

माघी पूर्णिमा ,उमड़ी भीड़

आज 31 जनवरी को 2018 को चंद्र ग्रहण हो रहा है और इस दिन माघ माह की पूर्णिमा भी है. इसलिए आज के दिन का विशेष महत्व है. इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करने का विशेष महत्व माना गया है. हिंदू पंचाग के अनुसार ग्यारहवें महीने में कर्क राशि में चंद्रमा और मकर राशि में सूर्य प्रवेश करता है तब माघ पूर्णिमा का पवित्र योग बनता है. इस दिन चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से शोभायमान होकर अमृत की वर्षा करते हैं. इसके अंश वृक्षों, नदियों, जलाशयों और वनस्पतियों में होते हैं. माना जाता है कि माघ पूर्णिमा में स्नान दान करने से सूर्य और चंद्रमा युक्त दोषों से मुक्ति मिलती है. माघ पूर्णिमा के दिन माघ मेले का आयोजन किया जाता है. स्नान और दान के बाद श्रद्धालु पूजा-पाठ, यज्ञ आदि करते हैं.

माघ पूर्णिमा के अवसर पर मोकामा के गंगा घाट पर स्नान करने के लिए दूर दूर से लोग आ रहे है.मोकामा और हथिदह स्टेशन पर क्षर्धालुओं की काफी भीड़ देखि जा रही है.सिमरिया  क्षर्धालुओं से भरा पड़ा है जबकि महादेव् स्थान,मालिया घाट,नारायणी घाट ,तपसी स्थान घाट पर लोग स्नानं और दान कर रहे हैं.

वैन लूटी

मोकामा के लखनचंद में सोमवार की देर रात अपराधियों ने एक वाहन चालक से मारपीट कर पिकअप लूट ली. समस्तीपुर जिले के मुसरीघरारी थाना क्षेत्र के रुपौली गांव निवासी चालक पूना दास (45) ने पुलिस को बताया कि सोमवार रात 8 बजे 25 से 30 वर्षीय तीन व्यक्तियों मोकामा से धान लाने की बात कहकर गाड़ी बुक की. मोकामा आने के क्रम में वह बाटामोड़ के पास मैहर ढाबा पर रुके और रात 11 बजे तक वहीं रुक रहे.उसके बाद वह गाड़ी लेकर लखनचंद के पास पहुंचे. इसके बाद पिटाई कर गाड़ी लूट ली.पुलिस जाँच कर रही है और लुटेरों को जल्द पकड़ने का दावा कर रही है.

शिक्षा सुधार मानव शृंखला

केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने मंगलवार को  शिक्षा सुधार मानव शृंखला बिहार की राजधानी  पटना में बनाई .देश  में सरकारी स्कूलों में शिक्षा में उदासीनता ,लापरवाही के खिलाफ शिक्षा सुधार मानव शृंखला बनायी गई .पुरे बिहार में रालोसपा ने  शिक्षा सुधार मानव शृंखला  बनाई.मोकामा में रालोसपा नेता जयवर्धन जी के नेतृत्व में शिक्षा सुधार मानव शृंखला  बनाई गई जिसमे उनके साथ सेकड़ों साथी हाथ में हाथ थामे नजर आये.उन्होंने ये कतार मोकामा के सबसे बड़े शिक्षा हब के सामने लगाया ताकि लोग इसकी अहमियत समझ सकें .ये मानव कतार स्टेशन रोड स्थित चिंतामनिचक मध्य विद्यालय के पास लगाया गया. जबकि कुछ ही फासले पर मारवाड़ी उच्च विद्यालय भी है.उम्मीद की जा रही है की केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा का ये पहल देश के शिक्षा में सुधार ला पायेगा .

सरस्वती पूजा कलम नहीं गोली चली

मोकामा यूँ तो बदनाम रहा है अपने खून खराबे के लिए .मगर जिस तरह से आज का युवा मनचला होता जा रहा है की सरस्वती पूजा में कलम की जगह गोली चलाने लगा है .अश्लील गीत संगीत बिलकुल आम हो गया सरस्वती में.अभी एक पूजा में महिलाओं को छेड़ने का आरोप लगा था. अब गोली चली है सरस्वती पूजा के सांकृतिक कार्यक्रम में एक  लड़का  जिलाकात कुमार पांडेय घायल हो गया है.मोकामा टाल क्षेत्र के सम्यागढ़ ओपी अंतर्गत प्रह्लादपुर गाव में ये घटना हुई है .पुलिस ने बदमाश को पकड़ लिया है , तलाशी में देशी पिस्टल और जिन्दा कारतूस  मिला  है.बदमाश तारतर गाव के निजामुद्दीनचक टोला निवासी विकास कुमार पासवान है .घायल युवक को घोसवरी पीएचसी में प्राथमिक उपचार के बाद बाढ़ अनुमंडलीय अस्पताल रेफर किया गया.युवक अभी खतरे से बाहर है .
ये भी पढिये.
ये कौन लोग हैं ये कौन सा रंगबाज़ है

आइये सम्मान करें बिटिया का जिसने मोकामा को सम्मान दिलाया

गणतंत्र दिवस के दिन राजपथ पर परेड समारोह में सीमा सुरक्षा बल के महिला दस्ता के द्वारा किये गए करतबों में मुख्य भूमिका निर्वहन कर पूरे देश में अपने मोकामा का सर गौरव से ऊँचा किया. सीमा सुरक्षा बल (BSF)  भवानी दस्ता की महिला बटालियन आरती कुमारी को मोकामा  की जनता के द्वारा कल दिनांक 31/01/2018 को सम्मानित किया जाएगा . आरती परेड के लिए चयनित होने के उपरांत पिछले कई महीनों से इसकी तैयारी में जुटी हुई थी .कड़े ट्रेनिंग के वजह से उसे कई दफा गंभीर चोट का भी सामना करना पड़ा, लेकिन उसने हार नहीं माना और सफलता पूर्वक उस भाड़ी भरकम बुलेट मोटरसाइकिल पर हथियार और भारत माता की तस्वीर के साथ करतब को पूरा किया .

मुझे विश्वास है कि आरती कुमारी मोकामा  सहित आसपास के क्षेत्र के हर उस हर बुजुर्ग एवं माता पिता के लिए आदर्श हो सकती है,जो देश की सुरक्षा और सेवा के ख़ातिर अपने बेटियों को मौका देने में हिचकते है . आइये हम सब मिलकर मोकामा  एवं बिहार गौरव आरती कुमारी का सत्कार करे और उस गौरवशाली पल का गवाह बने. कल मोकामा में श्री ललन सिंह के  कार्यालय साईं सदन  502 में आप सभी 3 बजे दोपहर में आकर देश की वीर योद्धा आरती कुमारी को राज्य और मोकामा का गौरव बढ़ाने के लिए सम्मानित करे.

बेटियां बाज़ी मारेगी

कबड्डी और कुश्ती को ताकत का खेल माना जाता है और ज्यादातर लड़के ही इस खेल का हिस्सा बनती है मगर बीते कुछ सालों में मोकामा की  बेटियों ने इस खले में अपना झंडा लहराया है देखने वालों की आँखे खुली रह गई .स्मिता ,कोमल,नीतू ,शमा सबने कबड्डी में मोकामा का नाम रौशन किया .अब मोकामा की की बेटियां कुश्ती में अपना ताकत दिखाने को तैयार है.जमके मेहनत कर रही है ,खुसती के सारे दाव पेंच सीख रही है ताकि कुछ कर दिखा सके .महिला कुश्ती खिलाड़ियों के प्रशिक्षक धीरज सिंह चौहानकहती है की  मोकामा प्रखंड की तीन महिला पहलवान राज्य स्तरीय जूनियर मुकाबलों में अपना दमखम दिखा चुकी हैं,और उनका जलवा देश देख चूका है.राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित दंगल में शामिल होने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रही  हैं. इनमें औंटा गांव की रहने वाली दो सगी बहनें 17 वर्षीया निशा कुमारी व 14 वर्षीया अंजली कुमारी और मोरारपुर गांव की 19 वर्षीया नूतन कुमारी शामिल हैं.

पंडारक से 3 बेटियां  रेशमी, वंदना और उजाला भी खूब मेहनत कर रही है और उम्म्मीद किया जा सकता .ये सब कुश्ती  में मोकामा का नाम जरुर रौशन करेगी .बेटियां बाज़ी मार रही है.
इसे भी पढ़िए

याद आये याजी

वह वोलता तो बड़े बड़े की बोलती बंद हो जाती थी । आजादी के दीवानों में कुछ एक ही ऐसे लोग थे जिनको गाँधी जी ओर सुभाष चंद्र बोस दोनों का सानिध्य प्राप्त था । जब उनका दिल करता तो गाँधी जी से गाँधी वाद सीख लेते जब दिल में आता तो सुभाष के साथ मिलकर अंग्रेजो से लोहा लेने लगते । चाहे आहिंसा के पुजारी ,चाहे गरम दल के लोग दोनों ही दल के लोग याजी को अपना नेता मानते थे । याजी भी फक्कर मसीहा थे जब दिल में आया गरम दल में ,जब दिल में आया नरम दल में । मगर हर हाल में अंग्रेजो को बाहर भगाने के लिए तत्पर । अपनी पूरी जिन्दगी उन्होंने समाज सेवा में लगा दिया , जब तक वो जीवित रहे लड़ते रहे समाज सुधारमें लगे रहे , जीवन के आखरी दिनों में भी वो लड़ते रहे :- चाहे बात किसानो की हो , चाहे बात मजदूरों की हो , चाहे गरीबों के हक़ की बात हो , उन्होंने अपना पूरा जीवन देश पर न्योछावर कर दिया .श्री याजी जी एक प्रख्यात स्वतंत्रता सैनानी, प्रखर पूर्व सांसद, पूर्व विधायक, नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के निकटतम सहयोगी एवं अखिल भारतीय स्वतंत्रता सेनानी संगठन के संस्थापक कार्यकारी अध्यक्ष थे.

अखिल भारतीय स्वतंत्रता सेनानी संगठन के संस्थापक अध्यक्ष एवं पूर्व राज्यसभा सदस्य स्व. शीलभद्र याजी की 22वीं पुण्यतिथि मनायी गयी. सभा में वक्ताओं ने स्वतंत्रता आंदोलन में उनके योगदानों का उल्लेख किया. संगठन के प्रदेश सचिव हरिशंकर नाथ तिवारी ने सरकार द्वारा सेनानी परिवार को दी जाने वाली सुविधाओं को महज छलावा बताया. इस संदर्भ में उन्होंने सरकार द्वारा बेटियों की शादी में 51 हजार रुपये सहयोग राशि दिए जाने के वादे का उल्लेख किया. साथ ही उन्होंने सेनानियों का परिचय पत्र बनाने एवं अधिकारियों द्वारा सेनानी परिवार को सम्मान न देने का भी जिक्र किया. संगठन के सदस्य जनार्दन शर्मा ने सेनानी परिवार को सरकारी नौकरियों में दो प्रतिशत आरक्षण दिए जाने के निर्णय को संगठन की जीत बताया. अन्य वक्ताओं ने आजादी की लड़ाई में स्व. याजी के समकालीन शहीदों रबाईच ग्राम के स्व. मोगल सिंह एवं राघोपुर गांव के नाथो यादव की स्मृतियों को संजोने की बातें कहीं. सभा की अध्यक्षता वाल्मीकि प्रसाद एवं संचालन रामानंद शर्मा ने किया.

आरती बेटी बिहार की

राष्ट जब अपना 69 गणतंत्र दिवस मन रहा था. तो मोकामा की बेटी आरती अपने सपने को सच करने के लिए गणतंत्र दिवस परेड में राजपथ पर उतरी थी.भाड़ी भरकम बुलेट पर जंहा अच्छे अच्छे लडखडा जाते है आरती  ने पूरी कुशलता  अपना परफोर्मेंस दिया.इस बार बी.एस.ऍफ़. के भवानी दस्ते को बहुत ही शोर्ट नोटिश पर परेड में शामिल होने का न्योता मिला था.गणतंत्र दिवस में इस बार पहली बार शामिल हुई थी बी.एस.ऍफ़. की महिला बटालियन  मगर भारत की बेटियों ने इसे चुनोती के रूप में लिया और कर दिखाया.इन स्टंट्स में पिरामिड, फिश राइडिंग, शक्तिमान, विंड मिल और बुल फाइटिंग शामिल थे. उन्होंने फ्लोरल ट्रिब्यूट, साइड सैल्यूटिंग दी. मोर जैसी आकृति बनाई.भवानी दस्ते ने कुल 4 से 5 मिनट तक अपना प्रदर्शन किया.परेड में 51 महिलाओं ने बाइक राइडिंग की और उनके समेत कुल 113 महिलाओं की डेयरडेविल्स टीम ने 350 सीसी की 26 रॉयल एनफील्ड बुलेट मोटरसाइकल्स पर स्टंट और एक्रोबेटिक्स दिखाए.  इन बाइकर्स रेजिमेंट  में 20 महिलाएं पंजाब, 15 पश्चिम बंगाल, 10 मध्य प्रदेश, 9 महाराष्ट्र, 8 उत्तर प्रदेश, 7-7 असम और बिहार, 6 ओडिशा, 5-5 राजस्थान, मणिपुर और गुजरात, 3-3 जम्मू-कश्मीर और छत्तीसगढ़, 2-2 कर्नाटक, उत्तराखंड, दिल्ली और केरल और 1-1 मेघालय और हिमाचल प्रदेश से हैं

आरती  मोकामा के औंटा गांव की अलख निरंजन शर्मा जी की बेटी  है .आरती ने २०१४ में बी एस ऍफ़ ज्वाइन किया था .और जब उसे राजपथ पर हुनर दिखने का मौका मिला तो उसने उसे सफलतापूर्वक अंजाम दिया. देखिये वीडियो में.

इसे भी पढ़िए

मोकामा की बेटी शमा जिसने कब्बडी में मोकामा का नाम रौशन किया 
मोकामा की कोमल नेशनल कबड्डी कैंप के लिए चयनित
कब्बडी खिलाड़ी स्मिता कुमारी 

ये कौन लोग हैं ये कौन सा रंगबाज़ है

ये कौन लोग हैं ये कौन सा रंगबाज़ है जो सरस्वती पूजा तक में महिलाओं के साथ बदमाशी करते है.उन्हें छेड़ते है .कल की घटना है जब मोकामा थाना की डॉक्टर टोली में प्रतिमा विसर्जन के दौरान  कुछ लफुओं ने सारे राह महिलाओं को परेशान किया.हालाँकि पुलिस आई छान वीन किया पर मनचलों को पकड़ने में नाकाम  रही .इस मामले में एफआईआर दर्ज नहीं हो सकी है. पुलिस का कहना है कि पीड़िता ने लिखित शिकायत दर्ज कराने से इन्कार कर दिया.कुछ बाइक सवार लोग थे जिन्होंने ने महिलाओं से बदमाशी की है .पूजा की पवित्रता को भी नहीं छोड़ते है ,सरस्वती पूजा धीरे धीरे पूरी तरह बदनाम होने लगी है .हर वर्स कुछ न कुछ होता ही रहता है.कंही अश्लील गाने पर नृत्य तो कंही महिलाओं के साथ छेड़खानी.आखिर हमारी मानसिकता इतनी गन्दी कैसे हो गई .कंहा से कंहा आ गए हम.