Monthly Archives

December 2013

धारित्री- मोकामा कि धरती इतराती हो!

मोकामा प्रणाम, जैसा की विदित है की मोकाम ऑनलाइन अपनी संस्कृति और सामाजिक धरोहर को बचाने के लिए अपना योगदान कर रहा है .जिसका छोटा सा उदहारण शहीद द्वार जो शहीद प्रफुल्ला चाकी के बलिदान की कहानी कहता है का (शहीद द्वार ) पुनर्निर्माण भी है.…