आचार्य राजेंद्र प्रसाद सिंह!

आचार्य राजेंद्र प्रसाद सिंह!

आचार्य राजेंद्र प्रसाद सिंह:-मोकामा से २ किलोमीटर दूर पंचमहला गावं में एक किसान के घर 04 मई 1941 को एक बालक का जन्म हुआ.बचपन से ही पढने में महारत हासिल.जब भी देखो वो किताबों की दुनिया में खोया रहता .माँ

डॉ. मंजय कश्यप…होनहार विरवान के होत चिकने पात!

डॉ. मंजय कश्यप…होनहार विरवान के होत चिकने पात!

डॉ. मंजय कश्यप…होनहार विरवान के होत चिकने पात , यह कथन अक्षरश सही होती है डॉ. मंजय कश्यप जी पर,अपने वल्य्काल से ही अपने मित्रों के बीच एक गायक के रूप में मशहूर रहे थे,भोजपुरी मैथिलि मगही आदि गीतों को