मातम का महिना ,हर आँख में पानी है

जनवरी २०१८ में मोकामा में मरने वाले की संख्या 20 से ज्यादा हो गई है .कुछ दिन, महीने, साल वाकई ग्रहण वाले होते हैं. ऐसे ग्रहण में आप स्वतः ही शोकाकुल हो जाते हैं. पीड़ित से आपका खून का रिश्ता हो या ना हो, आप कभी उनसे मिले हों या न मिले हों, परिजनों को जाने या न जानें- बावजूद इसके आप व्याकुल हो जाते हैं, मानो कोई बेहद निकटस्थ छोड़ कर चला गया हो सदा सदा के लिए.

आज मोकामा के हर उन आँखों में नमी है.सच है की रोने से से भी वो लोग वापस नहीं आयेंगे जो चले गए.सबके मुंह से बस आह निकल रही है.
“बहुत दुखी हूँ ये जानकर की मोकामा के 2 युवक सड़क दुर्घटना में अपनी जान गवा बैठे.अभी नये साल के आरम्भ में भी 2 युवक की सड़क दुर्घटना में ही मौत हुई थी.इश्वर उनके परिवार को दुःख सहने की क्षमता दें.जो घायल है उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूँ .ये सिर्फ उन परिवार की क्षति नहीं है बल्कि पुरे मोकामा का  शोक है.” पूर्व सांसद सूरजभान सिंह.

“कल 2 बच्चा का खुशरूपुर रोड एक्सीडेंट में मौत हो गया .सब मेरे छोटे भाई के समान थे. भगवान् उनकी आत्मा को शांति दें शोक में डूबे परिवार को शक्ति दें .” विधायक अनंत सिंह .“जदयू एमएलसी नीरज कुमार ने खुसरूपुर थाना क्षेत्र के जगमाल बीघा गांव के पास मोलदियार टोला, मोकामा के नौजवानों की हुई सड़क दुर्घटना पर दुख जताया है। उन्होंने दुर्घटना में मृतकों को ईश्वर से परम शांति एवं घायलों के शीघ्र स्वस्थ्य होने की कामना व्यक्त की” एम. एल. सी. नीरज कुमार .“मोकामा के मोलदियार टोला के दो युवा सड़क हादसा में मौत हो गया। भगवान मृतक आत्मा को शांति प्रदान करे एवं उनके परिजन को इस कठिन परिस्तिथि से लड़ने की शक्ति दे.ये साल की शुरुवात मोकामा के लिए अच्छा नही रहा इससे पहले शंकरवार टोला के दो युवा भी हादसा का शिकार होकर मौत हो गया था। हमारे बीच नही रहे भाई के आत्मा को भगवान शांति प्रदान करे.” जाप प्रदेश महासचिव ललन सिंह.“1 जनवरी को सिलीगुड़ी घूमने गए 2 युवाओं की एक सड़क हादसे में मौत हो गयी और महीने के अंतिम दिन आज 31 जनवरी को फिर से पटना फोरलेन पर एक एसयूवी हादसे में 2 युवाओं की दर्दनाक मौत हो गयी तो 3 अन्य युवक अस्पताल में हैं. पास के ही एक अन्य गांव बरहपुर में इस महीने ही सड़क दुर्घटना में एक 12वीं कक्षा के छात्र की मौत हो गयी थी. इसके अलावा इसी महीने स्थानीय कॉलेज में कार्यरत कर्मचारी की मौत हुई तो कहा गया कि महीनों से वेतन नहीं मिलने के कारण उनकी मौत हो गई। इसी तरह सकरवार टोला में एक और युवक की असामयिक मौत हुई तो पिछले सप्ताह ही मोलदियार टोला में एक मेरे पड़ोसी अचानक गिरे और उनकी मौत हो गई. इसके अतिरिक्त कई बुजुर्ग लोग भी दुनिया छोड़ गए। यानी यह पूरा महीना सिर्फ मौत का महीना रहा है.”  प्रियदर्शन शर्मा 

“इंसानों की मुस्कुराहट कब मन की तस्वीर बन कर रह जाती है यह कोई नहीं जानता। बहुत ही कम समय में दूसरी एक्सीडेंट की घटना ,बहुत ही दुखद । भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।जय आजाद” चन्दन  कुमार .“किस्मत किसके साथ कब क्या करे कोई नही जानता आज पूरा मोलधियार टोला मे मातम सबको छोर करके चला गया,बहुत रोना आ रहा है दोस्त छोरकर के चला गया” सन्नी सिंह मोलदियार.“चिठ्ठी ना कोई संदेश जाने ओ कौन देश जहाँ तुम चले गये,इस दिल पे लगागे के टेश जाने ओ कौन सा देश जहाँ तुम चले गये इक आह भी होगी हमने ना शुनी होगी जाते जाते आवाज तो दी होगी हर वक्त यही है हम उस वक्त कहा थे हम कहा तुम चले गये चिठ्ठी ना कोई संदेश जाने ओ कौन सा देश जहाँ तुम चले गये” रौशन सिंह भूमिहार.“भगवान इनकी आत्मा को शांति दें और परिवार को इस दुख की घड़ी में हिम्मत प्रदान करें ॐ शांति” राम कृष्णा.“अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नगर सह मंत्री एवम प्रतिभावान छात्र हिमांशु शेखर भी इस दुर्घटना के शिकार हो गये एवम उनकी भी दुःखद….. हो गयी ..ये हमारे फ़ेसबुक मित्र भी थे.दुःखद सादर नमन एवम श्रधांजलि. हिमांशु एवम मनमोहन .दोनों मृत आत्मा को” मुन्ना कुमार.“Heart felt condolences, may god peace his soul” स्वेता मानस.“भगवान सबकी आत्मा को शांति दें बहुत ही दुःखद ।” मुरली मनोहर.“बहुत ही दुखदाई घटना। भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे। परिवार को भगवान शांति प्रदान करे।” रामचन्द्र सिंह.“अत्यंत दुखद घटना, इस घटना की सूचना पाकर मैं काफी विचलित हो चुका हूं, बाबा परशुराम परिवार के सदस्यों को सहन शक्ति प्रदान करें”मनोज कुमार सिंह.“दिल दहल गया , ईश्वर इन दोनो की आत्मा को शांति प्रदान करें तथा इनके परिवार को दुःख सहने की शक्ति दें”जीतेन्द्र कुमार सिंह.“भगवान सभी मृतक की आत्मा को शांति दे और बचे हुए भाइयो को जल्द स्वस्थ करदे” सुमित कुमार
” बहुत ही दुःखद समाचार ईश्वर आत्मा को शांति दे तथा उनके परिवारजनों को हुए इस अपूरणीय क्षति और अत्यंत दुख की घड़ी से उबरने का साहस प्रदान करें।हे प्रभु!”अभिषेक सिंह.